Mere Rashke (Rashqe) Qamar – मेरे रश्के क़मर – Original

मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र

जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया

मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र

जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया

जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया

बर्क सी गिर गयी काम ही कर गयी
आग ऐसी लगायी मज़ा आ गया
जाम में घौल कर हुस्न की मस्तियाँ
चांदनी मुस्कुराई मज़ा आ गया

चाँद के साए में ऐ मेरे साकिया
तू ने ऐसी पिलाई मज़ा आ गया

नशा शीशे में अंगड़ाई लेने लगा
बज़्म रिन्दान में सागर खनकने लगा
मैकदे पे बरसने लगी मस्तियाँ
जब घटा गिर के छाई मज़ा आ गया

वो बे हिजबाना वो सामने आ गए
और जवानी जवानी से टकरा गयी
और जवानी जवानी से टकरा गयी
आँख उनकी लड़ी यूँ मेरी आँख से

आँख उनकी लड़ी यूँ मेरी आँख से
देख कर ये लड़ाई मज़ा आ गया

मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया

आँख में ठी हया हर मुलाक़ात पर
सुर्ख आरिज़ हुए वसल की बात पर
सुर्ख आरिज़ हुए वसल की बात पर
उसने शर्मा के मेरे सवालात पे
उसने शर्मा के मेरे सवालात पे
ऐसे गर्दन झुकाई मज़ा आ गया

मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया
मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया

बर्क सी गिर गयी काम ही कर गयी

आग ऐसी लगायी मज़ा आ गया

जाम में घौल कर हुस्न की मस्तियाँ

चांदनी मुस्कुराई मज़ा आ गया

शिख साहिब का ईमान बिक ही गया
देख कर हुस-ए-साक़ी पिघल ही गया
आज से पहले ये कितने मगरुर थे
लुट गयी परसाई मज़ा आ गया

ऐ फ़ना शुकर है आज बाद-ए-फ़ना
उसने रख ले मेरे प्यार की आबरू
अपने हाथों से उसने मेरी क़बर पर
चादर-ए-गुल चढ़ाई मज़ा आ गया

मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र

जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया

Mere Rashke Qamar Lyrics (English)

Mere rashke qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya
mere rashke qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya

barf si gir gayi kaam hi kar gayi
aag aisi lagaayi mazaa aa gaya

jaam mein ghoul kar husan ki mastiyan

chaandni muskurai mazaa aa gaya

chand ke saye mein ae mere sakiya
tu ne aisi pilai mazaa aa gaya

nasha shishe mein angdai lene laga
bajm rindan mein sagar khankne laga
maikade pe barasne lagi mastiyan
jab gata gir ke chhai mazaa aa gaya

wo be hijabaana woh saamne aa gaye
aur jawaani jawaani se takra gayi

aankh unki lardi yun meri aankh se
dekh kar ye laraai maza aa gaya

mere rashke qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya

aankh mein thi haya her mulaqaat par
surkh aariz huay wasal ki baat par
usne sharma ke mere sawaalat pe
usne sharma ke mere sawaalat pe
aise gardan jhukaayi maza aagaya

mere rashke qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya
mere rashke qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya

barf si gir gayi kaam hi kar gayi
aag aisi lagaayi mazaa aa gaya
jaam mein ghoul kar husan ki mastiyan
chaandni muskurai mazaa aa gaya

shaikh sahib ka imaan bik he gaya
daikh kar husan e saqi pigal he gaya
aaj se pehle ye kitne maghroor the
lut gayi parsaayi maza aa gaya

ae fanna shukar hai aaj baad e fanna
usne rakh le mere pyaar kee aabro
apne haathon se usne meri qabar par
chaadar e gul charhaayi mazaa aagaya

mere rashk e qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya

Jawani Zindagani Hai, Dunia Purani Hai

Jawani zindagani hai na tum samjhe na hum samjhe
ye ek aisi kahani hai na tum samjhe na hum samjhe

hamare aur tumhaare waste mein ek naya-pan tha
magar duniya purani hai na tum samjhe na hum samjhe

ayan kar di har ek par hum ne apni dastan-e-dil
ye kis kis se chhupani hai na tum samjhe na hum samjhe

jahan do dil mile duniya ne kante bo diye aksar
yahi apni kahani hai na tum samjhe na hum samjhe

mohabbat hum ne tum ne ek waqti chiz samjhi thi
mohabbat jawedani hai na tum samjhe na hum samjhe

guzari hai jawani ruthne mein aur manane mein
ghadi-bhar ki jawani hai na tum samjhe na hum samjhe

mata-e-husn-o-ulfat par yaqin kitna tha donon ko
yahan har chiz fani hai na tum samjhe na hum samjhe

ada-e-kam-nigahi ne kiya ruswa mohabbat ko
ye kis ki mehrbani hai na tum samjhe na hum samjhe

Saba Akbarabadi

मरीज़-ए-मोहब्बत, उन्ही का फ़साना

मरीज़-ए-मोहब्बत उन्हीं का फ़साना
सुनाता रहा दम निकलते निकलते
मगर ज़िक्र-ए-शाम-ए-अलम जब भी आया
चिराग़-ए-सहर बुझ गया जलते जलते

इरादा था तर्क-ए-मुहब्बत का लेकिन
फ़रेब-ए-तबस्सुम में फिर आ गये हम
अभी खाके ठोकर संभलने न पाए
कि फिर खाई ठोकर संभलते संभलते

उन्हें ख़त में लिखा था दिल मुज़्तरिब है
जवाब उन का आया मुहब्बत न करते
तुम्हें दिल लगाने को किसने कहा था
बहल जाएगा दिल बहलते बहलते

अरे कोई वादा ख़िलाफ़ी की हद है
हिसाब अपने दिल में लगाकर तो देखो
क़यामत का दिन आ गया रफ़्ता रफ़्ता
मुलाक़ात का दिन बदलते बदलते

हमें अपने दिल की तो परवाह नहीं है
मगर डर रहा हूँ ये कमसिन की ज़िद है
कहीं पा-ए-नाज़ुक में मोच आ न जाय
दिल-ए-साक-ए-जाँ को मसलते मसलते

वो मेहमाँ रहे भी तो कब तक हमारे
हुयी शम्मा गुल और डूबे सितारे
‘क़मर’ इस क़दर उन को जल्दी थी घर की
वो घर चल दिये चाँदनी ढलते ढलते

#Qamar #Jalalabaadi

Why Me

In 1975, Ashe won Wimbledon, unexpectedly defeating Jimmy Connors. In 1988, Ashe discovered he had contracted HIV during the blood transfusions he had received during one of his two heart surgeries. He and his wife kept his illness private until 1992, when the news leaked. Soon Ash started getting lots of mail.

Many asked him as to why did God choose him of all the people while he had not done anything wrong in his life? To this Ashe’s reply was, “All over the world some million teenagers aspire to become tennis players. Out of these million may be a hundred thousand reach to some sort of proficiency. Of them only a few thousand play in some circuit and only a hundred or so play the grand slam. Finally only two reach the final of Wimbledon. When I was standing with the trophy of Wimbledon in my hand I never questioned God “Why Me?” And now what right do I have to ask God “Why Me?” Ashe died in 1993.